Something is right for someone, wrong for someone. || कोई चीज किसी के लिए सही तो किसी के लिए गलत || (English / हिंदी)

8개월 전

Hello to all my friends,
The topic I am thinking today is my own thinking. Anything that is right for someone, the same thing can be wrong for someone. I have to give you an example to show my thinking. After showing my thinking, you have to think this point from both the side.

checkmate-1511866_960_720.jpg
Pixabay

To illustrate my thinking, I have taken the example of two characters in this article: one is Ramesh and the other is Suresh. This story is from a colony of the city of Mumbai, which has about 200 houses. Both Ramesh and Suresh grew up in this same colony but both of them have different thinking from each other. The Mumbai city where thousands of people came every day for job and for some good Money. There is a story of Mumbai city, here you will get food if you have courage to do a hard work but finding a roof in this city is really difficult. Millions of people live in this small Mumbai city. Here, small colonies are demolished and large buildings are already built.

Ramesh and Suresh who live in the colony and the name of this colony is Rameswaram Society. One day a big builder of Mumbai came in this small Row House Society. This builder calls all society people and holds a meeting. The builder says in the meeting that he wants to demolish this Row House Society and wants to build a new building. The builder says that he will demolish all the row house and build a new building and give everyone a flat in that building. Ramesh feels very bad after he heard this offer from builder and Suresh feels very good and he get excited about this offer.

Ramesh always wants to live in a house where there is an own courtyard and own land he have. And Suresh was always happy to see the big building of Mumbai city and thought that he would also be in such a big building one day. The meeting ends with the builder and Society members. And then the builder left from there. The entire society member then starts talking and interacting with each other and think about what would be better for all society members.

Ramesh says to the society that in a city like Mumbai, very fortunate people get their own home on their own land. Take such an own landed house and stay in the city is one of the aspirations in Mumbai We are fortunate. Ramesh says that once we give our house and go into the building we will always be locked in a cage. We will always stay in our own flat, but right where we will not have a patio or own land. Ramesh told to all society members, staying in row house is better to stay at flat. And then by saying this, Ramesh puts his own thought at front of the society members.

Then Suresh stands up and says that he does not agree with Ramesh. Suresh says that if we give our land and house to this builder then he will give us a new flat. We will get a new home in place of our old house, where there will be all the facilities available. A new home that we will be able to live comfortably instead of this old house, we will get a new home which will like a shining glass.

In this situation Ramesh and Suresh both want a good life for all society members and for them self as well but according to their own thinking. Ramesh have view that having an own landed house in a city like Mumbai is very good and Suresh thinks that having a new home in a city like Mumbai is a big thing. So now you have to decide who is right and who is wrong? But before deciding right and wrong, you have to think from Ramesh and Suresh ideologically. Is Ramesh right, own land, own house or Suresh is right New building new house?

Conclusion: - We believe I am always right and the other person is always wrong, but for other person point of view, we might be wrong and he is right according to his thinking.

Thank you for reading this article.

नमस्ते मेरे सारे मित्रों को।
आज मैं जो विषय पर सोच रहा हूं वह मेरी खुद की एक सोच है। कोई भी चीज किसी के लिए सही तो वही चीज किसी के लिए गलत कैसे हो सकती है। मेरी इस सोच को दर्शाने के लिए मुझे एक उदाहरण देना होगा। मेरी सोच को दर्शाने ने के बाद आप इस उदाहरण को दोनों ही पॉइंट ऑफ व्यू सोचना।

checkmate-1511866_960_720.jpg
Pixabay

मेरी इस सोच को दर्शाने के लिए मैंने इस लेख में दो पात्रों का उदाहरण लिया है एक का नाम है रमेश और दूसरे का नाम है सुरेश । यह कहानी है मुंबई शहर के एक बस्ती की जिसमें तकरीबन 200 घर है । रमेश और सुरेश दोनों ही इसी बस्ती में बड़े हुए हैं लेकिन दोनों की सोच एक दूसरे से विभिन्न है। मुंबई शहर सपनों की दुनिया जहां पर हजारों लोग न जाने कहां कहां से रोज मुंबई में बसने चले आते हैं। मुंबई शहर की एक कहानी है यहां पर दो वक्त की रोटी तो जरूर मिलती है लेकिन रहने के लिए छत नसीब वालों को ही मिलती है। इस छोटी सी मुंबई सिटी में करोड़ों लोग रहते हैं। यहां पर रोज छोटी-छोटी बस्तियों को गिराकर वहां पर बड़े-बड़े बिल्डिंग बना दिए जाते हैं।

रमेश और सुरेश जो कॉलोनी में रहते हैं उसका नाम है रामेश्वरम सोसायटी । एक दिन इस छोटी सी रो हाउस सोसाइटी में मुंबई का एक बड़ा बिल्डर आता है। यह बिल्डर इन सारे सोसाइटी वालों को बुलाकर एक मीटिंग रखता है। बिल्डर मीटिंग में कहता है की वह यह रो हाउस सोसायटी तोड़कर नई बिल्डिंग बनाना चाहता है। बिल्डर कहता है कि वह सारे रो हाउस तोड़कर बिल्डिंग बनाएगा और सब को उस बिल्डिंग में एक फ्लैट देगा। रमेश को यह बात बहुत बुरी लगती है और सुरेश को यह बात बहुत ही अच्छी लगती है।

रमेश हमेशा से ही एक ऐसे घर में रहना चाहता है जहां खुद का आंगन हो और खुद की अपनी जमीन हो | और सुरेश हमेशा मुंबई शहर की बड़ी बड़ी इमारत देख कर खुश होता था और सोचता था कि वह भी एक दिन ऐसी बड़ी इमारत में रहेगा | बिल्डर के साथ सोसाइटी वालों की मीटिंग खत्म होती है और फिर बिल्डर वहां से चला जाता है। सारे सोसाइटी वाले फिर आपस में बातचीत करने लगते हैं और सोचते हैं कि क्या ज्यादा अच्छा होगा।

रमेश सोसाइटी वालों से कहता है की मुंबई जैसे शहर में खुद की जमीन पर खुद का घर होना बहुत नसीब वालों को मिलता है। ऐसा घर लेना और रहना लोगों की मुंबई में एक ख्वाहिश होती है हम नसीब वाले हैं। रमेश कहता है कि अगर एक बार हम अपना घर देकर बिल्डिंग में चले गए तो हम हमेशा एक पिंजरे में बंद हो जाएंगे। हम सारे अपने अपने फ्लैट में हमेशा रहेंगे तो सही लेकिन जहां ना खुद का आंगन होगा और ना खुद की जमीन होगी। और फिर अपनी यह बात कहकर रमेश अपना खुद का विचार लोगों के सामने रखता है।

फिर सुरेश उठता है और कहता है कि वह रमेश की बात से सहमत नहीं है। सुरेश कहता है कि अगर हम अपनी जमीन और घर इस बिल्डर को दे देते हैं तो वह हमें एक नया फ्लैट देगा। हमें हमारे पुराने घर की जगह नया घर मिलेगा जहां सारी सुविधाएं होगी जो एक अच्छे घर में होनी चाहिए। एक नया घर जिसने हम आराम से रह पाएंगे और इस पुराने घर की जगह हमें कांच जैसा चमकता हुआ नया घर मिलेगा।

इस परिस्थिति में रमेश और सुरेश दोनों ही सारे लोगों का हित चाहते हैं लेकिन अपनी अपनी सोच के हिसाब से। रमेश की सोच है कि मुंबई जैसे शहर में खुद की जमीन और घर होना बहुत बढ़िया है और सुरेश सोचता है कि मुंबई जैसे शहर में खुद का नया घर होना बहुत बड़ी चीज है।तो अब यह आपको तय करना है कि कौन सही है और कौन गलत है ?लेकिन सही और गलत का फैसला करने से पहले आपको रमेश और सुरेश दोनों ही व्यक्तियों के विचारधारा से सोचना होगा। क्या रमेश सही है खुद की जमीन खुद का घर या सुरेश सही है नई बिल्डिंग नया घर ?

निष्कर्ष: - हम हमेशा सही हो और दूसरे हमेशा गलत यह हमारा मानना है लेकिन सामने वाले के लिए वह सही और हम गलत यह हमेशा होता है।

इस लेख को पढ़ने के लिए धन्यवाद आपका दिन शुभ रहे।

Authors get paid when people like you upvote their post.
If you enjoyed what you read here, create your account today and start earning FREE STEEM!
STEEMKR.COM IS SPONSORED BY
ADVERTISEMENT
Sort Order:  trending

You got a 66.67% upvote from @bid4joy courtesy of @mihirbarot!

Congratulations @mihirbarot! You have completed the following achievement on the Steem blockchain and have been rewarded with new badge(s) :

You received more than 100 as payout for your posts. Your next target is to reach a total payout of 250

Click here to view your Board
If you no longer want to receive notifications, reply to this comment with the word STOP

To support your work, I also upvoted your post!

Do not miss the last post from @steemitboard:

Christmas Challenge - The party continues

You can upvote this notification to help all Steemit users. Learn why here!

You got a 49.71% upvote from @brupvoter courtesy of @mihirbarot!

You got a 25.00% upvote from @redlambo courtesy of @mihirbarot! Make sure to use tag #redlambo to be considered for the curation post!

This post has received a 5.6 % upvote from @boomerang.

You got a 22.29% upvote from @dailyupvotes courtesy of @mihirbarot!

@dailyupvotes is the only bot with guaranteed ROI of at least 1%

Congratulations @mihirbarot! You have completed the following achievement on the Steem blockchain and have been rewarded with new badge(s) :

You got more than 500 replies. Your next target is to reach 600 replies.

Click here to view your Board
If you no longer want to receive notifications, reply to this comment with the word STOP

Do not miss the last post from @steemitboard:

SteemWhales has officially moved to SteemitBoard Ranking
SteemitBoard - Witness Update

You can upvote this notification to help all Steemit users. Learn why here!